Wednesday, 7 August 2013

वक्त

वक्त रुकना !
चलूंगी  साथ  तेरे !
हर  कदम !

मौसम  बारिशों  के !
तपे  धूप भी !
आंधी  उड़ाने  लगे !
बेदर्द  गम !
आए हर सितम !

पर यकीन !
उस  ख़ुदा  पे  लिये !
जीते  आए ,औ  जिये !
----------------------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति