Saturday, 14 September 2013

ज़मी ने कहा


  ज़मी ने कहा ----
--------------------
पहले ज़मी थमके ,
मेरी राह तकती थी !
मैं लौट आती थी ,
उसी जगा !
.पर अब ,
सतत ,ज़ारी है ,
सफ़र मेरा !
मुझे लौटना नहीं !
चूमकर भाल मेरा ,
उसदिन कहा उसने ,
-महफूज़ हो सदा
अब ,आजकल ,
तुमपर!!
आसमां निगाह रखता है !!
--------------------------------------------- डॉ. प्रतिभा स्वाति