Monday, 14 October 2013

kuch haiku के बारे में ....

-----------------------------------------------------------------------------------------------
                                                                                     
 ख़ुदा   का घर !
  मंदिर न मस्ज़िद !
 इंसा  की ज़िद !
--------------------------
                             

                                          कुछ ख़्वाब  थे !
                                          आँखों  में सितारे थे !
                                          माहताब थे !
-----------------------------------------------------------
                                        राम सा मन !
                                        हो रावण  दहन !
                                          सुख  का क्षण !
......................................................................

                                       हार या जीत !
                                         मुकाबिला ज़ुरूरी ?
                                         बदलें  रीत !                                 

------------------------------------------------------------------------------------------------------

राम  की जय !
रावण पराजय !
यही  आशय ?
-----------------------------------------------------------------
                                मन न माने !
                                     अभी छल है जिन्दा !
                                      सच शर्मिंदा !
.........................................................................

                                                                              


ये जो हाइकू हैं ---------
इनका आपस में कोई तालमेल नही !यदि रचना बड़ी हो , भाव हाइकू में न समा रहे हों / तब टंका , सेदोका या चोका बनाया जाए तो उचित है !
              बजाय इसके की हाइकू 'रेल ' बना दी जाए !                                             


इसे तो बच्चो के खेल की तरह शुरू किया गया जापान में / बच्चों ही के लिये !
और हमारे यहाँ बड़े-2 अब तक हाइकू ही खेल रहे हैं !

पर्याप्त शोध और सर्वे के 
बाद  तमाम चौका देने वाले
तथ्य सामने आए हैं ! आख़िर क्यूँ एक विदेशी विधा को हमने अपनाया तो पर अजनबी  बनाए रखा !  
  आज हर बीसवां पाठक ये
                                          जानना चाहता है की -------                                            ------' हाइकू ' क्या है ?


कितने हाइकूकार  अपने दायित्व बोध से अवगत हैं ?
ये शिकायत नही अपेक्षा है / आग्रह है / निवेदन है -------------जिसमे अकूत संभावना श्वास ले रही है !

----डॉ . प्रतिभा स्वाति-------------------------------------\