Monday, 5 August 2013

चोका : सुनो कबीर

                           सुनो कबीर !
                            रे , सुन भई साधो !
                            कलयुग  है !

                           मात -पिता  को ,
                           अब मान नहीं  है !
                            सब ही अंधे,
                            कोई  ज्ञान नही है ! -
-----------जारी ------------
-----------------------------------डॉ . प्रतिभा स्वाति