Sunday, 24 January 2016

शब्द हैं अर्जुन ...












__________________
शब्द सहज हैं !
इन्सान / उनको ,
तोड़ता - मरोड़ता है !
अर्थ को पकड़कर ,
अनर्थ के व्दार पे,
 जाके छोड़ता है !

बन चुकी पहले,
 जो परिभाषा !
उससे की जाती है ,
मनमाफ़िक आशा !

गढ़ते हैं चक्रव्यह !
कोशिश / उसे ,
बदलने की !
अनर्थ के सहारे,
कुतर्क / लेकर,
छलने की !

अपेक्षा के रण में, 
शब्द के अर्जुन ,
अर्थ में ,
खोजते हैं प्यार !
अनर्थ के कौरव,
परिभाषित क्रष्ण से,
खाते हैं मात ,
अंततः, जाते हैं हार !
--------------------------- डॉ. प्रतिभा स्वाति