Tuesday, 6 August 2013

sedoka

सुनो कबीर
वो जो आधी रात को
लगा रहे घात जो !
शत्रु देश के
सरहद पे धोखा !
नेता के घर खोखा !
-------------------------------------डॉ . प्रतिभा स्वाति