Wednesday, 7 August 2013

सुनो कबीर .... (1)

------------
सुनो  कबीर !
रे  सुन भई  साधो !
कलयुग  है !
---------------
मात -पिता  को ,
अब मान नहीं है !
सब  ही अंधे ,
कोई ज्ञान  नही है !
----------------------
स्वार्थ  की पूजा !
हर  घर  में  होती !
देहरी  तक  आके ,
खुशियाँ  रोतीं !
-----------------------
मन  में अनबन !
झूठे  बंधन !
दादा -दादी - दोहती !
नाती क्या पोती ?
------------------------
कोई रिश्ता  ना दूजा !
पैसे  की  पूजा !
सीधी हैं  खासी ,
सब उलटबासी !
----------------------------
सुन  रे साधो !
राम -रहीम में धोखा !

सब कहते ,
भैय्या !पैसा  ही चोखा !
---------------------------
सुनो  कबीर !
अब  तोता औ मैना ,
जीवनभर ,
लड़ते औ मरते !
सच  में भैय्या ,
प्यार नही  करते !
-----------------------
---------------------------jari -----hsesh bha  2.