Friday, 22 November 2013

कबीर / ग़ालिब चालीसा

*************************************************************
*********************************
               जब  लिखना  शुरू  किया तब मक़सद यही था  कि खयाल ज़ाहिर हो ! एक  रिक्तता जो ध्यान  के लिए ज़ुरूरी है , आती भी ध्यान / maditation से  ही है !
                   और इतना लिख दिया ! पर मन  माना ही नहीं ! कबीर और ग़ालिब वो आकाश हैं , जिन्हें  आखें  देख सकती  हैं ,
मुट्ठी में  नही  समा सकते !अस्तु .....मेरी  कलम फिर  चल गई !

*******************************************
कुछ इस तरह   /
                                                   ******************************************** * कबीर और ग़ालिब , समकालीन नही थे ! * उनकी तुलना का तो सवाल ही नही उठता ! * फिर भी जब हम ' सुबह - शाम ' कहते हैं , 'रात -दिन ' कहते है !'अमीर -गरीब' कहते हैं ! ' नवीन - प्राचीन ' कहते हैं !............................. बस / इसी तर्ज़ पे मैने जब 2 खयाल एक साथ आए, तब कहाँ तक ज़ब्त करती ख़ुदको ? और आख़िर क्यूँ ? तो लिख डाला ' कबीर - ग़ालिब चालीसा ' अभी 6 , बाकी इसके बाद क्रमश : thnx डॉ . प्रतिभा स्वाति ****************************************** ******************************************* ... more »

 ********************************************************************************
*******************************************
         और लिख डाला /' कबीर -ग़ालिब - चालीसा ' एक -चौथाई  आपके सामने है !  
*******************************************
******************************************************************************
******************************************
         इस  बार मुझे तारीफ़ नही, आप सबकी  बेबाक टिप्पणी की ज़ुरूरत है ! ओह, कमी बताने पर ही तो कृति  में संशोधन की सम्भावना  बनती है !
                           thnx / आभार
                                                डॉ . प्रतिभा स्वाति
*******************************************