Saturday, 23 November 2013

DR. PRATIBHA SOWATY: ख़ुशी / अब यहाँ नही रहती

DR. PRATIBHA SOWATY: ख़ुशी / अब यहाँ नही रहती: " मेरे घर का सामान बनके !

                                                      '   मत पूछिये  सबब , मेरे यूँ /
                                                           आज मुस्कुराने  का !
                                                         किसी कोयल से ,
                                                        गीत  गाने का !
                                                  पतझड़ में , उस सूखी टहनी पे ,
                                                   फूल के खिल जाने का !.....'