Friday, 8 November 2013

चाँद

*******************************
   
             
 ************************************
सचमुच / ये ,
तय कर लिया ,                                       इसे कहते हैं ' आलस्य'!
है / मैंने !
पूछूंगी / ज़ुरुर ,
मिलने आएगा ,                                   कॉपी पेस्ट के लिये क्षमाप्रार्थी  
जब वो आज !!
कहाँ जाता है वो ?
आख़िर क्या है ,
हर अमावस ,
उसके / यूँ
*
*
गायब होने का राज़ !!!
----------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति 


*******************************