Friday, 8 November 2013

इन्कलाब


***************************************************



कौन था !
वो शख्स / जो ,                       इस ब्लॉग की id saspend होने 
अपना / भूल गया था ,
आपा / और                           मुझे दूसरी id bnani पड़ी है !
उसकी आँखों में ,
बस इक़ ख़्वाब ,
बसा करता था !!!                    
1 दूसरा ब्लॉग भी !
न इश्क- वफ़ा ,
न दीन-ओ-इमान !                  
जिसकी link मैने दी है !
जब भी निकलते ,
थे / लफ्ज़ 
लोग सुना करते थे ,
बस ...एक ही जुनूं,
वो / आठो पहर ,
----' इन्कलाब '--
कहा करता था !!!
------------------------ डॉ . प्रतिभा स्वाति 
***************************************************************
http://sowaty.blogspot.in/2013/11/blog-post_957.html