Friday, 8 November 2013

# DR. PRATIBHA SOWATY #: चाँद

# DR. PRATIBHA SOWATY #: चाँद: ------ mera 2nd blog

 रात भर ,
 करता रहा ,
 वो फ़रियाद !

 रात ख़ामोश !
 सितारे चुप !!
 मै भी आख़िर
, क्या देती जवाब ?

 जब लिया ,
 हाथों में चाँद
 पोछ दिया!
उसके
 माथे का दाग ! ( पूरी कविता k लिये link दी है / कष्ट के लिये क्षमा )