Thursday, 26 December 2013

मैं ...


__________________________


____________________________________________
  हम - तुम -वो !
कविता का विषय !
कुछ और हो !
______________________________________________


_______________________________________
 मैं तो बूंद हूँ !
कभी सीप में मोती !
आँख में रोती !

______________________________________


_______


_________ कई बार पूरी कोशिश के बाद भी हम वो नहीं लिख पाते , जो चाहते हैं ! पर जो चाहते हैं उसे न लिखा हो ,ऐसा भी नहीं ! बस वक्त बदल जाता है :)