Saturday, 30 April 2016

बस गए हैं गम

 __________________________________________________

बस  ही गए जब गम ,
मेरे दिल में आकर !
करती हूँ इस्तकबाल ,
उनका मुस्कुराकर :)
________________________ डॉ . प्रतिभा स्वाति