Wednesday, 4 May 2016

हाइकू :बच्चे - बुज़ुर्ग

*
 बच्चे - बुज़ुर्ग 
बढ़ गई दूरियां
मजबूरियां
*
पेड़ खजूर 
धरा और आकाश 
क्यूँ हुए दूर 
*
दिले नाशाद
अब रोता अकेला
है अलबेला 
*
सब  गंवाई 
जोड़कर पाई -पाई 
व्यथा - रुलाई 
*
बदलती हैं 
रोज़ ही परिभाषा 
आशा निराशा 
*
रिश्तों की लाश 
हरकोई ढो रहा 
सब खो रहा 
*
पुण्य  या पाप 
मन ही का संताप 
अपनेआप
*

धन का लोभ 
दिल में पलता है 
क्यूँ खलता है
*
न कर चाह 
पूनम का ग्रहण 
चंद्र की आह 
*
__________________ डॉ .प्रतिभा स्वाति