Thursday, 26 May 2016

ज़िंदगी यूँ

DR. PRATIBHA SOWATY: बोती हूँ शब्द ....:








  गुज़रे  यूँ  ज़िन्दगी के

   बरस ,माह और पल  !

   सौ  बार गिरे गर तो ,

 सौ बार गए सम्हल !