Tuesday, 20 September 2016

आतंकवादी ? कायर कहीं के .....

__________ एक  मौकापरस्त , विक्षिप्त , कायर और कंगाल समूह जो ठग ,चोर -डाकू और भिखारियों से भी बदतर  है , वो है  ' आतंकवादी ' विश्व  के माथे पर मात्र एक कलंक ! हिंसक और धोखेबाज़ !

__________ असामाजिक  अपारिवारिक ,लक्ष्यहीन ,दिशाहीन ,अपराधी ,देशद्रोही !

_________ जो भी हो मुझे आतंकवादियों  को परिभाषित  करने  की कोई  ज़ुरूरत  महसूस  नहीं  होती ! हाँ ये" इन्सान  की  वो  औलाद  हैं , जो इन्सान प्रतीत  नही होती " ----------------- जानवरों से भी इनकी  तुलना नहीं  की  जा  सकती !

________ इनकी उत्पत्ति असंतोष , वैमनस्य और मूर्खता  के मिले- जुले तत्वों से हुई . ये यत्र - तत्र -सर्वत्र बड़े  छुपे  तौर पर हमारे बीच  ही पाया  जाने  वाला  उन्मादी नरपशु  हैं , जिसे  हम सामने  होने पर  भी पहचान  नहीं  पाते .

__________ इन्सान  की शक्ल में पाए जाने वाले ये दरिन्दे बेहद शातिर ,चालक और नकारात्मक  बुद्धिमत्ता  के मालिक होते हैं . इनके आकाओं ने इन्हें भ्रमित  किया होता है .ना सिर्फ़ देश अपितु विश्व ,समूची  मानव जाति  के लिए ये आतंकी  कीड़ा  बड़ा घातक है . इससे  निज़ात के लिए तुरंत  कोई  कारगर उपाय ज़ुरूरी  है , हर हाल में ,हर  कीमत पर विश्व को इससे मुक्त  कराना  होगा !






मेरा ख्याल है आज रात तक मै अपनी पूरी बात कह पाऊँगी / गिव मी अ ब्रेक ........प्लीज़
_________________________________
मोदी जी पाकिस्तान से तो उरी हमले का बदला लीजिये ही, पर पहले 2 गोली उस हाईकोर्ट के जज को मार दो जिसने सेना के पैलेट गन इस्तेमाल करने पर रोक लगाई है , फिर 2 गोली चैनल वालों को मार दो जो आतंकवादियों को मासूम नौजवान कहते है, 2 गोलियां नेताओं को मार दो जो आतंकवादियों के लिए मानवाधिकार की बात करते है , 2 गोलियाँ उस फिल्म निर्माता को मार दो जो हैदर जैसी आतंकवाद समर्थित फिल्मे बनाता है, और अंत मे 2 गोलियां वकीलों को मार दो जो आतंकीयो के लिए निशुल्क केस लड़ते है। इन लोगो को मारे बगैर सीमा पर जवान भेजना व्यर्थ है।
वन्दे मातरम्।।

_______________________________________
देश पर हमला हो गया लोग नाम बदल कर ऐकांतवास में पडे रहना चाहते हैं। यह नाम बदलने का जुगाड़ भी बडिया है । ऐसा करो नक्सलीयों और आतंकवादियों का नाम बदल कर पाकिस्तानी फोज रख दो और जब भी कोई आतंकी नक्सली मारा जाए खबर बनवा लो कि हमने पाकिस्तानी सैनिक मार दिए । मुस्लिम इलाकों को तुम पहले से पाकिस्तान कहते हो । अब वहां कत्लेआम करने पर उसे पाकिस्तान पर फतह कहकर खबर छपवाओ।और हां ये जो हिंदू नाम के जासूसी में पकडे जाते है कुछ पैसों के लालच मे इनका भी नाम बदल दो। यह नाम बदलने से सब समस्या हल हो जाएगी । विकास के नाम पर आकड़ों मे हेराफेरी बहुत कर चुके अब मंदी का नाम विकास कर दो । अपने हिजडेपन का नाम बहादुरी । वैसे भी यह कोई मुश्किल नहीं आपके लिए आपने तो भुगोल इतिहास तक बदल डाला है । और हां जानवर का नाम बदल कर इंसान कर दो ताकी आने वाले लोग आपको इंसान समझ सकें।
___________________________________________
Mahesh Rousha Osho
15 mins
ं  अपने देश हिंदूस्तान में ही ......उन्हें हिंदू आतंकवादी और हिंदू जेहादी कहा गया था और इसका नतीजा ये हुआ ये था की ऐसा कहने के कारण बाला साहब ठाकरे से वोट देने का अधिकार छीन लिया गया था और कई वर्षों तक उनके वोट डालने पे बैन लग गया था
जिस देश में अपने देशभक्त लोगों पे कार्यवाही की जाती हो दुश्मन देश के लिए उस देश के लोग आज किस मूंह से पाकिस्तान को जवाब देने की बात करते हैं ????
अपने घर के अंदर मौजूद साँपों का फन तो कुचला नहीं जाता बाहरवालों का क्या ख़ाक कुचलेंग
हमारे देश के प्रत्येक नेता ने कुर्सी पर बैठकर जनता के साथ औऱ देश के साथ सिर्फ गद्दारी की है बस

आतँकवाद का कभी कोई धर्म नहीं होता है.... मजहब 100% होता है... धर्म व मजहब दोनों की परिभाषा ही अलग-अलग होती है !!!!
1- जैश ए मोहम्मद --- मुहम्मद साहब का दल,
2- लश्कर ए तोइबा -- फरिश्तो की सेना
3- हिज़्ब उल मुजाहिदीन -- इस्लामी बलिदानियो का समूह
4- अल कायदा -- अल्लाह के नियमो का पालक ..
फिर भी कहते हैँ आतँकवाद से इस्लाम का कोई लेना देना नहीँ?
DrPratibha Sowaty
     हमारा निशाना pm नहीं ----------- आतंकवादी होना चाहिए