Saturday, 16 November 2013

6 चोका रचनाएँ

  *****************************************

            सबसे  पहले  मै  अपने  ' हाइकू ' लेकर fb पर 
ही गई / आम इंसान के बीच ! मै हिंदी को हिंदी ही में 
लिखना  चाहती थी ! आम इंसान नाराज़ हो गया जब 
mob . पर  हिंदी font नही दिखे ! और मै ख़ुदको राजी 
नहीं कर पा रही थी eng . font में हाइकू लिखने  के लिए ! तब एक page  बनाया ! पोस्ट पेंट करके दी ,तब सभीको  ' हाइकू ' हिंदी में लिखे होने पर भी दिखने लगे !
' अभी मैने ये नही कहा की समझ में आने लगे !'
******************************************  
         

  ******************************************

             हर 4 पोस्ट  के  बाद बड़े  धैर्य से मै बताती  रही कि' हाइकू  क्या है ?' और  ' haiga ' देने लगी , उन्हें  बिना बताए ही !' वे' पसंद  करने  लगे ! खुबसूरत  चित्र ' उन्हें'  ' लुभाने  लगे !
              और मै उसी page पर bina उन्हें  बताए सेदोका / टंका / और चोका रचनाएँ  देने लगी :)

*****************************************
चोका : हरसिंगार 
***************************************


 *******************************************

चोका : पर्दे  के पीछे 

**************************************** 
*********************************************************************************

*******************************************

देख  रहे  हैं न आप ----' चोका ' रचना  की शुरुआत हाइकू  ही से हो रही है ! और समापन में अंतिम 5 लाइंस 'टंका ' की है !

****************************************


 ******************************************

          किसी  भी  lain को  देखिये उसमे 5 वर्ण  हैं / या फिर 7 . इनका  एक निश्चित  क्रम भी है ! निश्चित संख्या भी , जो तय  करती है की रचना हाइकू है / टंका है / सेदोका  है या चोका ! आपको बतादू  2 हाइकू कभी 
नही मिलते , अकेले 1 व्यक्ति  के ! वैसे  अभ्यास या सीखने  की प्रक्रिया में यह  जायज़ है ! किन्तु  आदर्श या अनुकरणीय नही !

*******************************************


 ********************************************************************************

*******************************************


 ******************************************

           कई बार मात्र 5-7 अक्षर का चयन जो की हर रचना का अनिवार्य  अनुशासन है , उसके रस में वो प्रवाह नही पाता , वो लय नही आ पाती , गीतात्मकता नही आ पाती. लेकिन  करत -2 अभ्यास  ते .......

***************************************** 

 *****************************************

             मैं  भी अभ्यास  ही के दौर से गुज़र रही हूँ, रचना में कमी, उसके रस में आ सकती है . पर उसके 
व्याकरण और मनोविज्ञान को मैंने अपने शोध के दौरां भली प्रकार समझने की कोशिश की है !

*******************************************

********************************************************************************

*****************************************
                                    thnx 
_______________                                              डॉ . प्रतिभा स्वाति 
******************************************