Monday, 10 February 2014

मन ...


     
                  मुझे गीता के छठे अध्याय का वो आधा श्लोक  भुलाए  नहीं  भूलता --------

' चंचलं हि मन : क्रष्ण ......वायोरिव  च दुश्क्रताम ..

.                                    
 फिर  भी मैने ये लिख डाला :)