Friday, 29 November 2013

गौरैया :)

%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%
               सचमुच  / अब ,
              वो  नहीं  दिखती  !
                  अब  कहाँ  रहे ,
                     वो  आंगन / चौपाल  ?
                      गोधूली  बेला  में ,
                    रंभाते  हुए  बछड़े  !
                      धूल  उड़ाती  गैय्या ,
                      शोर  मचाते  ग्वाल  !
                       अरे !
                     मेरे  पास / तो  बस ,
                      कुछ  यादें     हैं !
                       बचपन   की  !
                      भुला  दूँ / तो  क्यूँ  आख़िर ?
                       और  याद  रखूं / तो 
                       इनका  क्या  करूं  फिर ?
                         खोजती  हूँ  /  रोज़  
                        और  /  सहेजती    हूँ  चित्र !
                         और  बुन  देती हूँ !
                         कोई गीत /  कहानी !
                         नई  नस्ल  के  लिये !
                         जैसे  संजोता  है किसान ,
                          अच्छे  बीज !
                         उम्दा  फस्ल  के लिये !
%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%
               डॉ . प्रतिभा  स्वाति 
%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%