Saturday, 31 May 2014

कॉपी राईट एक्ट



               लेखक / रचनाकार के लिये बनाया गया ये अधिनियम , आख़िर क्यूँ कानून की किताबों ही में , कसमसाकर रह गया ? क्यूँ इन्टरनेट पर ,इस  बारे में कोई पुख्ता कदम नहीं उठाया गया ? क्यूँ writer इतना विवश या स्वार्थपर है ? क्यूँ रचना पर अनधिकृत चेष्टा करने वालों को नैतिकता का बोध नहीं ? कहाँ  गए वे सिद्धांत ? कहाँ हैं वे संस्कार ? आखिर कमी कहाँ पर  है ?
                   कब /लेखक ख़ुद अपने हक़ के लिये ..... उठाएगा आवाज़ ? ..... सवाल उठाना मेरा अभिप्राय नहीं है ! समाधान की ख़ोज / उकसा रही है मुझे ... ये सब लिखने के लिये ....
--------------------- डॉ. प्रतिभा स्वाति